पल्लवी दीदी को चोदा

हेलो फ्रेंड्स मैं आपका दोस्त रोहन आपके सामने एक सेक्सी कहानी लेकर आया हूँ. मेरी ऐज २२ साल और मैं कोलकाता में रहता हूँ. मैंने जिम जाकर अच्छी बॉडी बना रखी है
दूसरी तरफ मेरी दीदी पल्लवी काफी मोटी है और पुराने ख्यालो की है . पल्लवी दीदी दिखने में गोरी और सुन्दर है उनकी उम्र २९ साल है. पर मोटापे की वजह से ना कोई उनका बॉयफ्रेंड है और ना ही उनकी शादी फिक्स हो रही है. दीदी इस वजह से काफी परेशान रहने लगी. मैंने दीदी को समझाया की आपको थोड़ा मॉडर्न बनना पड़ेगा, दीदी मेरी बात मान गयी. फिर मैंने दीदी को अपना जिम ज्वाइन करवा दिया. मैंने उनकी डाइट चार्ट बनायीं और अलग अलग एक्सरसाइज बताये. दीदी भी रेगुलर जिम आने लगी. इसी बिच मेरा कॉलेज खुल गया और मैं अपने हॉस्टल वापस चला गया. पर मैंने दीदी को रेगुलर जिम जाने बोल दिया था. सेमेस्टर ख़तम होने के बाद ६ महीने बाद वापस अपने घर गया. जब मैं पल्लवी दीदी से मिला तो मुझे यकीं नहीं हुआ. दीदी ने अपना काफी वेट लूस कर लिया था. ३८ की कमर अब सिर्फ ३२ की रह गयी थी. मोटापे की वजह से दीदी जो माल थी वो किसी को नजर नहीं आयी थी. पर अब जब दीदी ने अपनी एक्स्ट्रा चर्बी हटा ली थी तब उनका सेक्सी फिगर दिखने लगा था, जो की ४०-३२-४० होगा. मुझे अब पल्लवी दीदी नहीं मस्त माल लग रही थी. दीदी ने टाइट कुर्ती और लेग्गिंग पहन रखी थी. जिसमे उनके शरीर का एक एक कर्व नजर आ रहा था, बड़ी बड़ी चूचियां दो गुम्बदों की तरह लग रहे थी और फैली हुई गांड कददू जितनी बड़ी लग रही थी. दीदी ने मुझे हग कर लिया

दीदी: रोहन कैसी लग रही हूँ मैं
मैं: अरे दीदी आप तो बहुत हॉट हो गयी हो
दीदी: रोहन सब तेरी वजह से हुआ है, तू मुझे मोटीवेट नहीं करता तो मैं मोटी ही रह जाती
मैं: दीदी अब आप ऐसे ही जिम जाते रहना फिर आपका फिगर और अच्छा हो जायेगा और आप सेक्सी लगोगी
दीदी: तो मैं अभी सेक्सी नहीं लग रही हूँ क्या भाई
मैं: नहीं दीदी आप अभी भी बहुत सेक्सी लग रही हो… पर आपने थोड़े ओल्ड फैशन वाले कपडे पहने है.. आज मॉल चलते है फिर आपके लिए कुछ सेक्सी कपडे लेते है
दीदी: ठीक है भाई

मैं वहा से सीधा वाशरूम गया और मूठ मारने लगा. मेरा लंड दीदी की बड़ी बड़ी चूचियां और भारी चुत्तड़ देखकर पूरा अकड़ गया था. मैं अपना ८” का लौड़ा हिला रहा था. आज पहली बार मैं पल्लवी दीदी के नाम की मूठ मार रहा था. दीदी की फिगर याद करके आखिर मेरा मूठ गिर ही गया.
शाम को मैं दीदी को अपने साथ मॉल ले गया और वह उसके लिए कपडे लिए. टीशर्ट, शर्ट, शॉर्ट्स, कैप्री, टॉप, जीन्स ख़रीदा हमने. सभी कपडे मैंने काफी टाइट लिए थे जिससे दीदी का फिगर अच्छे से दिखे. मेरी नजर वह पड़ी एक ब्लैक कलर की वन पीस ड्रेस पर गयी जो काफी सेक्सी टाइप की थी. मैंने वो ड्रेस दीदी को दी ट्राई करने के लिए.

दीदी: भाई ये ड्रेस तो बहुत छोटी और टाइट है
मैं: अरे दीदी ये आप पर ठीक रहेगी.. वैसी भी लड़कियां आजकल ऐसे ड्रेस ही पहनती है
दीदी: पर रोहन ये थोड़ा रिवीलिंग भी है
मैं: दीदी अब आपका फिगर मस्त हो गया है.. अब आपको ऐसे ही ड्रेस पहनना चाहिए.. आप टेंशन ना लो आप पे ये अच्छी लगेगी.
दीदी: ठीक है भाई
मैं: दीदी आप इधर ही पहन लो ये ड्रेस … फिर यहाँ से कोई डिस्को चलते है .. मजा आएगा
दीदी: ओके रोहन अभी आती हूँ चेंज करके
मैं: दीदी एक रिक्वेस्ट है बुरा नहीं मानना प्लीज अंदर ब्रा और पैंटी नहीं पहनना
दीदी: अरे रोहन ये कैसी डिमांड है
मैं: दीदी आप भरोसा रखो मुझपर आप बिना ब्रा और पैंटी के और भी सेक्सी लगोगी

दीदी मेरी बात मानकर ड्रेस चेंज करने चली गयी. थोड़ी देर बाद दीदी वापस आयी तो मेरे होश उड़ गए. ब्लैक ड्रेस दीदी के गोरे बदन पर बहुत मस्त लग रहा था. ड्रेस काफी टाइट और छोटी होने की वजह से दीदी के बदन से चिपक गयी थी. दीदी की भारी भरकम गांड बहुत ही मुश्किल से ड्रेस में समायी हुई थी. जब वो चलती, तब उनके चुत्तड़ बहुत मटक रहे थे. क्लीवेज का बड़ा हिस्सा दिख रहा था. टाइट ड्रेस की वजह से चूचियां बड़े बड़े फुटबॉल की तरह लग रही थी. दीदी ने ब्रा पैंटी नहीं पहनी थी, जिससे उनकी बड़ी गांड और चूचियां और बड़ी बड़ी लग रही थी. दीदी का ये सेक्सी रूप देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया.
फिर मॉल से हम एक डिस्को गए, वहा मैंने दीदी को दारू पिलाया. पहले तो दीदी मन कर रही थी, पर बाद में मान गयी. फिर मैं दीदी को लेकर डांस फ्लोर पर गया और डांस करने लगा

मैं: दीदी मजा आ रहा है ना
दीदी: हाँ भाई बहुत मजा आ रहा है
मैं: दीदी यहा मैं आपका भाई नहीं हूँ, आज के लिए मुझे अपना बॉयफ्रेंड समझिए
दीदी: ठीक है रोहन

मैं दीदी से चिपक कर डांस करने लगा. दीदी पर भी दारू का नशा चढ़ने लगा. मैंने दीदी को किश किया, मेरा पूरा धयान दीदी की नंगी चूचियों पर था जो दीदी की सांसो के साथ बाउंस हो रही थी.

दीदी: ये क्या कर रहा है भाई
मैं: अरे पल्लवी मेरी जान …. आज मैं तेरा भाई नहीं बॉयफ्रेंड हूँ.. तुम सिर्फ एन्जॉय करो

दीदी कुछ नहीं बोली, मैंने दीदी को किश करना जारी रखा और उनकी चुत्तड़ो को दबाने लगा, बहुत बड़ी गांड थी साली की. आअह्ह्ह्हह भाई .. उउउउउउ की आवाजे निकलने लगी दीदी की मुंह से. फिर मैंने अपना हाथ दीदी की चूचियों पर ले गया… और उन्हें दबाने लगा. दीदी की चूचियां बहुत ही बड़े बड़े और भरी हुई थी, जिन्हे मसलने में बहुत मजा आ रहा था. दीदी का अब कण्ट्रोल हो गया था..अब वो काफी सेक्सी आहे भरने लगी ………… आअह्हह्ह्ह्ह उईईईईई रोहन

मैं: दीदी और मजे करने है क्या
दीदी: हाँ भाई बहुत मजा आ रहा है
मैं: दीदी इसके ऊपर एक होटल है चलो वहा चलते है
दीदी: पर भाई वहा जाकर तुम क्या करने वाले हो
मैं: दीदी वही जो एक लड़का अपनी सेक्सी गर्लफ्रेंड के साथ करता है… दीदी मैं तुम्हे कमरे में लेजाकर बुरी तरह चोदने वाला हूँ
दीदी: उईईईईई भाई ये क्या बोल रहा है.. अपनी दीदी के साथ ये सब करेगा
मैं: हाँ दीदी मैं आपके सेक्सी बदन को भोगना चाहता हूँ.. आपकी चूचियों को दबा दबा कर आपकी बूर चोदना चाहता हूँ..
दीदी: ठीक है रोहन… ऐसे भी ये फिगर तुम्हारी वजह से ही बना है… चल आजा तू ही मजे ले ले इसका पहले ..

मैं दीदी को लेकर फटाफट होटल के कमरे में गया. वहा पहुंचते ही मैंने दीदी को पीछे से पकड़ लिया और अपना खड़ा लंड दीदी की चौड़ी गांड में रगड़ने लगा.. मैं दीदी की चूचियों को पीछे से मसलने लगा… अह्ह्ह्हह भाई….. औरजोर से दबा इन्हे…… मैंने दीदी की ड्रेस की जीप खोल दी, और ड्रेस उतार दी. अब दीदी मेरे सामने पूरी नंगी खड़ी थी.

मैं: उफ्फ्फ्फ़ दीदी इतनी बड़ी बड़ी चूचियां मैंने आज तक नहीं देखि
दीदी: आअह्ह्ह्ह भाई … चूस ले इन्हे और दबा जोर से

मैंने दीदी की निप्पल को मुंह में लिया और चूसने लगा… मैं चूचियों को दबा दबा कर चूस रहा था. फिर मैंने दीदी को बेड पर फेंक दिया. उनकी चिकनी चुत बहुत ही सुन्दर और फूली हुई थी. मैं उनकी चुत को चूसने लगाऔर दोनों हाथो से चूचियों को मसल रहा था.. दीदी आहे तेज हो गया और चुदाई की भीख मांगने लगी..

दीदी: आह्ह्ह्ह भाई … अब मत तड़पा अपनी दीदी … जल्दी से पेल दे अपना लंड मेरी बूर में
मैं: ओह्ह्ह्ह पल्लवी मेरी रानी रेडी हो जा मेरा लंड खाने के लिए.

मैं अपना लंड दीदी की बूर में रगड़ने लगा, बूर अब काफी गीली हो चुकी थी. मैंने एक जोर का धक्का मारा और लंड का सुपाड़ा दीदी की बूर में डाल दिया…

दीदी: उईईईईई माँ मर गयी भाई… निकाल इसे
मैं: ओ माय सेक्सी दीदी .. अभी तो सिर्फ लंड २” ही अंदर गया है.. अभी तो पूरा पेलना बाकि है

मैं दीदी के दर्द की परवाह ना करते हुए, उनकी चूचियों को दबाते हुए एक और लम्बा शॉट मारा. इस बार लंड दीदी की बूर को फाड़ता हुआ पूरा अंदर चला गया.. दीदी की आँखों से आँसू आ गए..

दीदी: उईईईईई उउउउउउउ भाई फाड़ डाला तूने मेरी चुत
मैं: दीदी अब आपकी सील तोड़ दी है मैंने… अब आपको भी चुदने में बहुत मजा आएगा

अब मैं धीरे धीरे लंड दीदी की बूर में अंदर बाहर करने लगा. दीदी को भी अब मजा आने लगा.. अब उसकी चीखे मॉनिंग में बदल गयी. मैं उनकी बड़ी बड़ी चूचियों को दबा दबा कर चोद रहा था..

दीदी: आअह्ह्ह्हह रोहन मेरे राजा.. ऐसे ही पेलते रह अपनी दीदी को
मैं: ओह्ह्ह्ह दीदी… थैंक्यू जो अपने मुझे अपना ये सेक्सी बदन चोदने दिया
दीदी: फास्टर बेबी… अह्ह्ह्हह उउउउउउ… फ़क मी मोर डार्लिंग

पूरा कमरा चुदाई की और दीदी के आँहो की आवाज से गूंज रहा था. दीदी बहुत उत्तेजित हो कर चुद रही थी और कामुक आवाजे निकाल रही थी..मैं अपना लंड पूरा निकाल कर फिर से जड़ तक पेल देता था दीदी की बूर में.

दीदी: ओह्ह्ह्ह मेरे बहनचोद भाई और दम लगा साले
मैं: उफ्फ्फ मेरी रांड पल्लवी.. भाई से चुदने में मजा आ रहा है
दीदी: ओह्ह्ह्हह उईईईईई है भाई बहुत मस्ती से चोद रहा है तू
मैं: ओह्ह्ह दीदी तुम माल ही हो ऐसी.. इतनी बड़े बड़े बूब्बे है तेरे …इनको दबा दबा कर चोदने में बहुत मजा आ रहा है
दीदी: और दबा भाई इन चूचियों को एंड कीप फकिंग योर दीदी… मेक मी कम डार्लिंग

मैं दना दन अपना लंड दीदी की बूर में चोदने लगा. दीदी भी उछल उछल कर चुदवा रही थी. हमदोनो पसीने से नहा गए थे… पर दीदी के बदन को भोगने का नशा ऐसा छाया था की मैं बस लम्बे लम्बे शॉट्स मारे जा रहा था. दीदी की हिलती हुई बड़ी बड़ी चूचियां मेरे जोश बड़ा रही थी. जिन्हे मैं दबा दबा कर चूस रहा था और दीदी को चोद रहा था. १ घंटे की मैराथन चुदाई के बाद हमदोनो शांत हुए. मैंने पूरा मूठ दीदी की बूर में ही डाल दिया..

Comments